Friday, 20 November 2009

खत्री संत कुमार टंडन जी की एक कविता पढें !!

आपलोगों ने खत्री संत कुमार टंडन 'रसिक' जी का नाम अवश्‍य सुना होगा , हिन्‍दी में मुख्‍यत: कविता लिखनेवाले 'रसिक' जी ने समाज में रूढियों के विरूद्ध जागरूकता फैलानेवाले कई आलेख भी लिखे है। आज उनकी एक कविता आपलोगों को पढवा रही हूं , कारगिल युद्ध के बाद मिली भारत की विजय से उनकी भावनाओं ने इस कविता का रूप लिया था ......

लौटकर जाने न पाएगा अगर फिर आएगा ,
हम करेंगे जंग दुश्‍मन आंख यदि दिखलाएगा।
भूल अब हमसे न होगी , हम न धोखा खाएंगे,
सिर हथेली पर लिए हम वीर हैं लड जाएंगे।
धूल चाटेगा हमारी भूमि पर जो आएगा ,
जिंदगी भर दुश्‍मनी का अब सबक मिल जाएगा।।
लौट कर....................................

शांति के हम हैं पुजारी , किंतु कायर तो नहीं ,
मिल नहीं सकती शहीदों की मिसालें है कहीं।
दोस्‍ती के अब दिखावे में न भारत आएगा ,
जो दगाबाजी करेगा , देश वह पछताएगा।
लौट कर ....................................

शूरवीरों की सपूतों की यही तो शान है ,
प्राण कर देंगे निछावर देश हित यह आन है।
हर लडाई में विजय का दिन सुनहरा आएगा,
आदमी , हर आदमी , फौलाद का बन जाएगा।
यह तिरंगा चोटियों पर रात दिन लहराएगा ।।
लौट कर ...................................




2 comments:

पी.सी.गोदियाल said...

लौटकर जाने न पाएगा अगर फिर आएगा ,
हम करेंगे जंग दुश्‍मन आंख यदि दिखलाएगा।
भूल अब हमसे न होगी , हम न धोखा खाएंगे,
सिर हथेली पर लिए हम वीर हैं लड जाएंगे।

बढ़िया प्रस्तुति संगीता जी , मगर आज कल ऐसा हो नहीं रहा ! वह लौट के भी जा रहा है और बार-बार जा रहा है !

Nirmla Kapila said...

शूरवीरों की सपूतों की यही तो शान है ,
प्राण कर देंगे निछावर देश हित यह आन है।
हर लडाई में विजय का दिन सुनहरा आएगा,
आदमी , हर आदमी , फौलाद का बन जाएगा।
यह तिरंगा चोटियों पर रात दिन लहराएगा ।।
लौट कर ...................................
बहुत सुन्दर रचना । बधाई

आपको यह आलेख पसंद आया ....