Thursday, 10 May 2012

शीतला:एक कल्‍याणकारी माता .. खत्री अनिल कोहली (गुडगांव)

जगतजननी, जनकल्‍याणी मां शीतला देवी के मंदिर सेनिकलती मधुर शंख ध्‍वनि एवं चौरासी मांगलिक घंटो और घंटियों की स्‍वरलहरियां दूर दूरांतर में फैलकर न केवल मानव में एक दूसरे के प्रति प्रेम औरसद्भावना संचारित करती हैं , बल्कि उसे समाज और धर्म की चेतना से परिचित करवाकर उसके मन में अन्‍याय के प्रति विद्रोह के भाव उत्‍पन्‍न करने के साथ साथ बालक के प्रति मां की ममता और वात्‍सल्‍य को भी उद्भाषित करती है।युगों पूर्व देवताओं ने भी माता शीतला की स्‍तुति में गाया था ...
शीतले त्‍वं जगत माता , शीतले त्‍वं जगत्पिता। शीतले त्‍वं जगत्‍धात्री , शीतले नमो नम:।।
 अर्थात् , हे शीतले, तुम्‍हीं इस जगत की माता और पिता के साथ साथ इस चराचर जगत को धारण करने वाली और पालन पोषण करने वाली हो। ऐसी शीतल माता को बारम्‍बार प्रणाम है। सामान्‍यतया शीतला का नाम सुनते ही मन में एक बीमारी , जिसे चेचक , मासूरिका , गलाघोंट , बडी माता , छोटी माता  , विस्‍फोटक आदि नामों से जाना जाता है , का विचार मन में कौंध जाता है। ऋतु परिवर्तनों पर शरद और वसंत नाम के दो भयंकर दानव विभिन्‍न रोगों का कारण माने जाते हैं , इसलिए इन्‍हें बासंतिक कष्‍ट भी कहा जाता है। धर्म के प्रति सही जानकारी न होने से इसे बडी माता या छोटी माता नाम दे दिया गया है , जो सर्वथा गलत है। माता तो सबपर वरद्हस्‍त रखती है और आशीर्वाद ही देती है। कहा भी गया है 'पुत कपूत हो सकता है , माता कुमाता नहीं हो सकती'। कोई भी ममतामयी मां , जो कि पूजनीय है , अपने पुत्ररूप में भक्‍तों को कष्‍ट देने या जान लेने हेतु प्रत्‍यक्ष या अप्रत्‍यक्ष तौर पर ऐसा नहीं कर सकती। वह तो हमेशा अपने भक्‍तों का कष्‍ट हरण को तैयार होकर मनोकामनाओं को पूरी करती है।

अखिल ब्रह्मेश्‍वरी माता शीतला अलग अलग स्‍थानों में अलग अलग नाम से जानी जाती , जैसे कौशाम्‍बी जनपद में 'कडे की देवी' , ऋषिकेश में 'बासंती माता' , मुजफ्फरनगर में 'बबरेवाली शीतला माता' , जम्‍मू और कश्‍मीर के स्‍थलन क्षेत्र में 'जौडीयां माता' , गुडगांव में 'कृपी माता' , आदि कई नाम से शक्तिपीठ या सिद्धपीठ स्‍थापित हैं। इसी प्र‍कार उन्‍नाव में इन्‍हें कोई कल्‍याणी देवी के नाम से , तो इलाहाबाद में मासूरिका देवी के नाम से तो जौनपुर में चाऊंकिया देवी के नाम से । ऐसे ही सहारनपुर के पास शिवालिका पहाडियों में 'श्रीशताक्षीमाता' को , हिमाचल में 'चिंतपूर्णी माता' को , तथा रोहतक में 'फल्‍मदे माता' को शीतला माता के नाम से जाना जाता है। अद्भुत रहयमयी शीतला माता के बारे में एक बात तो सर्वमान्‍य और सत्‍य है कि यी दुर्गा का ही रूप है , पर कौन सा , ये विवादित हैं। कडे की देवी और बबरेवाली शीतला माता को मां कालरात्रि का रूप माना जाता है। तीनो तापों की अग्नि को शांत करने के कारण इन्‍हें मां कुष्‍मांडा का स्‍वरूप माना गया है, तो कहीं भगवान स्‍कंदजी द्वारा माता कहे जाने के कारण इन्‍हें स्‍कंद माता भी माना जाता है। फिरोजाबाद के एक गांव में 'ब्रह्मचारिणी माता' को भी शीतला माता के नाम से जाना जाता है। इसी प्रकार एक स्‍वामी जी के अनुसारये 'मां धूमावती' हैं। मां शीतला देवी के इतने नाम ही अपने आपमें एक रहस्‍य छुपाए हुए हैं। कहीं कहीं तो सतीदेवी के अंग गिरने के कारण भी इन्‍हें जाना जाता है। जैसे कौशाम्‍बी क्षेत्र में 'कडे की देवी' के स्‍थान पर सती देवी के दाहिने कर के कारण शीतला शक्तिपीठ माना जाता है। वास्‍तविकता तो मैया शीतला देवी स्‍वयं ही जान सकती हैं।

अज्ञानतावश अद्भुत , विस्‍मयकारी , रहस्‍यमयी कहे जानेवाले हिंदु शास्‍त्र पूर्णत: वैज्ञानिक हैं , इसलिए तो महर्षि वेदव्‍यास और भगवान धन्‍वंतरि ने विभिन्‍न पुराणों में देवी शीतला के स्‍वरूप का वर्णन इस प्रकार किया है ....
बंदेह शीतलाम् देवी रासभस्‍थां दिगम्‍बराम्। मार्जनीकलाशोपेतां सूपलिकृतमस्‍तकाम्।।
इसका अर्थ है कि गधे पर बैठी हुई सर्वथा नग्‍न , झाडू और कलश उठाए , सूप को मस्‍तक पर भूषण की तरह सजाए शीतला देवी की मैं वंदना करता हूं। अगर उपरोक्‍त मंत्र की वैज्ञानिक विवेचना की जाए तो मालूम होगा कि इसमें कई अद्भुत रहस्‍य छुपे हैं। शीतला का प्रकोप होते ही रोगी अपने शरीर में निरंतर दाह का अनुभव करता है , इसलिए ये शीतला कहलाती है। इनका वाहन गधा सहनशीलता का प्रतीक है। चेचक का प्रकोप होने पर शरीर पर कपडे न के बराबर ही होने चाहिए, क्‍योंकि वस्‍त्र दानों या जल भरे छालों पर चिपकते हैं। उन्‍हे अलग करने पर पीडा होती है।झाडू और कलश माता शीतला के हाथों में दर्शाने का अर्थ है कि वहां सफाई और ठंडक आवश्‍यक है। जल कलश रखने का तात्‍पर्य है कि रोगी के निकट जानेवाला व्‍यक्ति भी हाथ पैर धोकर जाए । सूप को दर्शाने का अर्थ यह है कि रोगी को शुद्ध आहार दिया जाना चाहिए। रोगी को निरामिष , ठंडा औरबासी भोजन दिया जाता है। रोगी के घर के सभी प्राणी साफसुथरे रहकर , पान सुपारी का प्रयोग वर्जित मानकर माता शीतला देवी की भक्ति उपासना में लग जाते हें।
माता दुर्गा के जागरण में महारानी तारा देवी की कथा कहने सुनने की परंपरा प्रचीन काल से ही चली आ रही है। बिना इस कथा के जागरण को संपूर्ण नहीं माना जाता है, यद्यपि पुराणों और ऐतिहासिक पुस्‍तकों में इसका कोई उल्‍लेख नहीं है । इस कहानी में एक स्‍थान पर आता है कि रूक्‍कों के बालक को जब चेचक निकल आयी थी , तब रूक्‍को दुखी होकर अपने पूर्वजन्‍म की बहन तारामती के पास गयी और सब वृतांत सुनाया। तब तारामती ने कहा कि तू ध्‍यान करके देख कहीं तुझसे माता के पूजन में कोई भूल तो नहीं हो गयी है। तब रूक्‍को को छह वर्ष पूर्व की बात का ध्‍यान आ गया कि उसने कहा था कि बच्‍चे के होने पर जागरण करवाऊंगी। अर्थात् ये जागरण शीतला माता के लिए ही हुआ था। हिंदुशास्‍त्रों के अनुसार कोई भी धार्मिक मांगलिक या नवरात्र पूजा का कार्य तबतक पूर्ण नहीं माना जाता है , जबतक कि घट की पूजा न की जाए। सुगंधयुक्‍त शीतल जल से भरे सुंदर शुभदायी कलश में आलौकिक विधि यानि कलश में ही श्री माता शीतला देवी विराजमान हैं। कलश ही माता शीतला का रूप है। कोई श्रद्धालु इनका स्‍मरण करके इन्‍हें कहीं भी पूज सकता है , किसी चौराहे पर , पेउ पर , पत्‍थर को माता का स्‍वरूप मानकर उसकी पूजा कर लेने से मां शीतला प्रसन्‍न हो जाती हैं। शीतला माता के शुभ दिन सोमवार और शुक्रवार हैं।
मां शीतला के चरणों में शीश झुकाने से श्रद्धालुओं को जीवन सफल हो जाता है , मनोकामनाओं की पूर्ति होती है तथा भवबाधा से मुक्ति मिलती है।

No comments:

आपको यह आलेख पसंद आया ....