Tuesday, 20 April 2010

अरोड वंश की कुल 962 अल्‍लों का संकलन किया जा सका है( भाग - 1) ... खत्री सोहन लाल बजाज

स्‍वर वर्ण से शुरू होनेवाले अल्‍ल .....

अकारी , अखलेजे , अगंदा , अंगी ,अधेले , अचरू , अछपानेवाले, अच्‍छपरानी , अजायती , अजमानी ,अजहाली, अठरेजा , अथडेजे , अथरेजे , अधरेजे, अधलिखे , अन्‍द , आन्‍दा , अनंदा , अन्‍दरानी , अन्‍दाहमुखी , अन्‍देमानी , अनेजे , अपन , अपनेजे , अपहून , अपनबी , अवरानी , अबयाए , अबहर ,अभवानिए , अम्‍बायवादी , अमरिए , अलूंगिए , अलूचे , अस्‍तावाधी , असरानी , असीजे , अभाणी , अजोडा , अभट्टा , अनदानी , असूंजा , अनरेजा , अधोस , आकली ,आनी , आभाटे , आमरे , आहूजे , इच्‍छपुजानी , इलाहाबादी , इस्‍तानी , इच्‍छामारणी , इंदरानी , इलफानी ख्‍ उत्‍तराधी , उत्‍तरेजे , उधरेकी , उबाबेजे ,  एथरे , एजियाल , एदानी , एलानहादिए , एलेसवी , ओतरेजे , ओपरगे , ओतरेजा ,ओरगिए ।

('खत्री हितैषी' के स्‍वर्ण जयंती विशेषांक से साभार)

3 comments:

चिट्ठाचर्चा said...

आपका ब्लॉग बहुत अच्छा है. आशा है हमारे चर्चा स्तम्भ से आपका हौसला बढेगा.

Udan Tashtari said...

आभार जानकारी का!

Khanna said...

DHYANWA....

शीतला:एक कल्‍याणकारी माता .. खत्री अनिल कोहली (गुडगांव)

जगतजननी, जनकल्‍याणी मां शीतला देवी के मंदिर सेनिकलती मधुर शंख ध्‍वनि एवं चौरासी मांगलिक घंटो और घंटियों की स्‍वरलहरियां दूर दूरांतर में फैलक...